space
Mumbai 

धाराविकरों के पुनर्वास का विरोध, कुर्ला के स्थानीय लोगों ने 'डीआरपीपीए' को जगह देने के सरकारी फैसले को तुरंत रद्द करने की मांग की

धाराविकरों के पुनर्वास का विरोध, कुर्ला के स्थानीय लोगों ने 'डीआरपीपीए' को जगह देने के सरकारी फैसले को तुरंत रद्द करने की मांग की धारावी पुनर्विकास योजना के तहत कुर्ला की मदर डेयरी की 8.5 हेक्टेयर भूमि पर धारावी के अयोग्य निवासियों के पुनर्वास का स्थानीय लोगों और जन प्रतिनिधियों ने कड़ा विरोध किया है। किसी भी मामले में, कुर्ला के लोगों ने मदर डेयरी साइट को धारावी पुनर्विकास परियोजना प्राइवेट लिमिटेड (डीआरपीपीएल) को हस्तांतरित करने का विरोध किया है, यह मानते हुए कि धारावीकरों को यहां पुनर्स्थापित नहीं किया जाना चाहिए, न ही मदर डेयरी साइट को एक के रूप में विकसित किया जाना चाहिए उद्योग।
Read More...

नए साल पर इसरो ने एक्सपो सैटेलाइट की लांच... आखिर इस अंतरिक्ष मिशन से क्या मिलेगा !

नए साल पर इसरो ने एक्सपो सैटेलाइट की लांच... आखिर इस अंतरिक्ष मिशन से क्या मिलेगा ! इस मिशन की खासियत ये है कि XPo सैटेलाइट से इसरो अंतरिक्ष से आने वाले एक्स-रे स्त्रोत का पता लगा सकेगा। ये एक्स रे किस आकाशीय पिंड से आ रही है, इसके बारे में भी जानकारी मिलेगी। इसी के साथ 'ब्लैक होल' की रहस्यमयी दुनिया का अध्ययन करने में मदद करेगा। वहीं, न्यूट्रॉन सितारे (तारे में विस्फोट के बाद के बचे हिस्से), आकाशगंगा में मौजूद नाभिक को समझने में मदद मिलेगी। 
Read More...
Mumbai 

मीरा भायंदर के मेट्रो कारशेडकी राह में नई बाधा... अब मार्गिके स्पेस की नई बाधा खड़ी

मीरा भायंदर के मेट्रो कारशेडकी  राह में नई बाधा... अब मार्गिके स्पेस की नई बाधा खड़ी मीरा भयंदर मेट्रो के काम में कार शेड की बाधा तो दूर हो गई है, लेकिन अब मार्गिके स्पेस की नई बाधा खड़ी हो गई है। चूंकि इस मेट्रो का रूट राय, मुर्धा और मोरवा गांवों से होकर गुजरेगा, इसलिए वहां के 500 घर प्रभावित होंगे. इसके चलते स्थानीय लोगों ने विरोध जताया है. इसके चलते उत्तान में नए कार शेड को जगह मिलने के बावजूद काम शुरू नहीं हो सका है।
Read More...

स्पेस में 'गगनयान' से 4 अंतरिक्ष यात्री जाएंगे... ISRO चीफ ने बताया- क्या है सबसे बड़ा चैलेंज

स्पेस में 'गगनयान' से 4 अंतरिक्ष यात्री जाएंगे...  ISRO चीफ ने बताया- क्या है सबसे बड़ा चैलेंज सोमनाथ ने पंडित दीनदयाल ऊर्जा विश्वविद्यालय (पीडीईयू) के 11वें दीक्षांत समारोह में स्नातक छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, ‘इसे संभव बनाने के लिए आने वाले दिनों में बहुत सारी तकनीक विकसित करने की जरूरत है. इसरो में हम इसे साकार करने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं’.
Read More...

Advertisement