democracy
Maharashtra 

अगर मोदी सरकार हारी तो देश का भविष्य शांतिपूर्ण होगा और लोकतंत्र फलने-फूलने लगेगा - उद्धव ठाकरे

अगर मोदी सरकार हारी तो देश का भविष्य शांतिपूर्ण होगा और लोकतंत्र फलने-फूलने लगेगा -  उद्धव ठाकरे उद्धव ठाकरे ने दावा किया, "अगर मोदी सरकार हारी तो देश का भविष्य शांतिपूर्ण होगा और लोकतंत्र फलने-फूलने लगेगा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो देश को काले दिन देखने पड़ेंगे। अच्छे दिन कभी नहीं आएंगे, लेकिन काले दिन जरूर आएंगे।"  महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि भ्रष्टाचारियों को बचाना ही मोदी गारंटी है। भाजपा अन्य पार्टी के लोगों को अपने खेमे में शामिल कर उनके भ्रष्टाचार को साफ कर रही है। उन भ्रष्ट लोगों को भाजपा ने सुरक्षा का आश्वासन दिया है।
Read More...

भारत के लोकतंत्र के इतिहास में प्रेस की स्वतंत्रता पर कभी भी कोई प्रतिबंध नहीं देखा जा सकता- राजनाथ सिंह

भारत के लोकतंत्र के इतिहास में प्रेस की स्वतंत्रता पर कभी भी कोई प्रतिबंध नहीं देखा जा सकता-  राजनाथ सिंह कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि लेखक और विचारक उन मुद्दों पर सरकार के विचारों को भी प्रतिबिंबित कर सकते हैं जहां "सामाजिक सहमति" है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि वे "सरकार की कठपुतली" हैं। रक्षा मंत्री ने एनडीटीवी डिफेंस समिट में अपने संबोधन में कहा कि मीडिया को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में जाना जाता है, उन्होंने यह कहा कि यह सरकार और लोगों के बीच एक कड़ी के रूप में काम करती है और वे दोनों एक-दूसरे को जोड़ने का काम करती है। 
Read More...
Maharashtra 

एक बार फिर लोकतंत्र की जीत हुई है : सीएम शिंदे 

एक बार फिर लोकतंत्र की जीत हुई है : सीएम शिंदे  मुंबई: महाराष्ट्र की शिंदे सरकार के लिए विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने बड़ा फैसला लेते हुए शिंदे गुट की शिवसेना को असली बताया है. राहुल नार्वेकर ने फैसले में कहा है कि एकनाथ शिंदे के पास 55 में से 37 विधायक हैं और उनके 16 एमएलए की सदस्यता भी बरकरार रहेगी.
Read More...

‘ये ‘मित्रकाल’ के विरुद्ध, लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई है - राहुल गांधी

‘ये ‘मित्रकाल’ के विरुद्ध, लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई है - राहुल गांधी भाजपा अपने विरोधियों के हौसले तोड़ने के लिए केंद्रीय जांच एजेंfसयों के साथ-साथ अब कोर्ट और कानून का भी दुरुपयोग करने लगी है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के मामले में ऐसा विशेष तौर पर देखने को मिल रहा है लेकिन राहुल गांधी किसी भी कीमत पर हार मानने को तैयार नहीं हैं। कल उन्होंने अपने संघर्ष का जज्बा एक बार फिर दिखाया।
Read More...

Advertisement