मुंबई की पुरानी म्हाडा इमारतों का होगा पुनर्विकास... 388 इमारतों के 30-40 हजार परिवारों को मिलेगी राहत  

Mumbai's old old buildings will be redeveloped... 30-40 thousand families will get housing in 388 buildings

मुंबई की पुरानी म्हाडा इमारतों का होगा पुनर्विकास... 388 इमारतों के 30-40 हजार परिवारों को मिलेगी राहत  

मुंबई की 30 साल पुरानी म्हाडा इमारतों के पुनर्विकास का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। सेस इमारतों की तर्ज पर एफएसआई का लाभ देकर इनका पुनर्विकास किया जाएगा। इस निर्णय का लाभ 388 इमारतों में रहने वाले 30 से 40 हजार परिवारों को मिलेगा। इस बारे में अगले सप्ताह अधिसूचना जारी होने की संभावना है।

मुंबई : सूबे की शिंदे-फडणवीस सरकार ने दक्षिण मुंबई की 30 साल पुरानी म्हाडा इमारतों के पुनर्विकास का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। सेस इमारतों की तर्ज पर एफएसआई का लाभ देकर इनका पुनर्विकास किया जाएगा। इस निर्णय का लाभ 388 इमारतों में रहने वाले 30 से 40 हजार परिवारों को मिलेगा। इस बारे में अगले सप्ताह अधिसूचना जारी होने की संभावना है।

सह्याद्री गेस्ट हाउस में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, गृहनिर्माण विभाग के प्रधान सचिव भूषण गगराणी, सांसद राहुल शेवाले, भाजपा जिलाध्यक्ष मिलिंद तुलस्कर एवं म्हाडा पुनर्रचित संघर्ष समिति के पदाधिकारियों की बैठक इन इमारतों के पुनर्निर्माण का रास्ता साफ हो गया।

विकास नियंत्रण नियमावली की धारा 33 (24) में संशोधन कर 33 (7) के सभी लाभों को लागू कर इमारतों का पुनर्विकास करने को लेकर सरकार सकारात्मक है। इस संबंध में अगले सप्ताह अधिसूचना जारी हो सकती है। सरकार के इस फैसले से जर्जर हो चुकी म्हाडा इमारतों में रहने वाले हजारों परिवारों को लाभ मिलेगा। म्हाडा की तरफ से इमारतों के पुनर्विकास का प्रस्‍ताव पेश किया गया था। इस पर सुझाव और आपत्तियां आमंत्रित की गई थी। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद जल्द ही फैसला होने की संभावना है।

म्हाडा ने मुंबई में 14,000 से अधिक पुरानी और जर्जर इमारतों का पुनर्निर्माण किया है। इस इमारतों के किराएदारों के घरों का क्षेत्रफल 160 से 225 वर्ग फुट है। पुरानी इमारतों के रख-रखाव का खर्च बढ़ गया है, इसलिए इन इमारतों के पुनर्विकास की लगातार मांग जा रही थी। विकासक भी इन इमारतों के पुनर्विकास के लिए आगे नहीं आ रहे थे, क्योंकि उन्हें पुनर्विकास में पर्याप्त एफएसआई उपलब्‍ध नहीं हो रही थी।

इन इमारतों का निर्माण कार्य 70 से 80 के दशक में किया गया था। इमारतों में कई परिवार रहते हैं। इनमें से कई की हालत जर्जर है। सबसे बड़ी समस्या कॉमन टॉयलेट की है। कई इमारतें पांच मंजिला हैं, लेकिन उनमें लिफ्ट नहीं है। इससे वरिष्ठ नागरिकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। सरकार के फैसले से इन लोगों की समस्याओं का स्थाई रूप से समाधान हो सकेगा।

Citizen Reporter

Report Your News

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

महाराष्ट्र में बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर गिरा फुटओवर ब्रिज... 20 लोगों के घायल होने की खबर महाराष्ट्र में बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर गिरा फुटओवर ब्रिज... 20 लोगों के घायल होने की खबर
महाराष्ट्र के चंद्रपुर में एक बड़ा हादसा हो गया है. यहां बल्लारशाह रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज का एक हिस्सा...
अभिनेत्री कटरीना की पहली वेडिंग एनिवर्सरी पर ये सरप्राइज देंगे विक्की कौशल...
बादशाह ने गाया कला चश्मा गाना, खुद को रोक नहीं पाए MS धोनी समेत ये क्रिकेटर्स...
कन्नौज में 10 बच्चों की मां प्रेमी के साथ फरार... घर में बिलख रहे बच्चे, पति थाने के लगा रहा चक्कर
CM योगी ने रामायण मेले का किया शुभारंभ... बोले- अयोध्या के विकास में धन की कमी नहीं होने देंगे
गाजियाबाद में टॉफी पर दो भाइयों में तकरार.... बड़े ने लगाई फांसी
सोशल मीडिया पर अमेरिकन से हुई फ्रेंडशिप... मुंबई की महिला को लगा दिया लाखों का चूना

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media