७/११ वर्ष २००६ लोकल सीरियल ब्लास्ट की बरसी, धमाकों में २०९ निर्दोष लोगों की मौत…

७/११ वर्ष २००६ लोकल सीरियल ब्लास्ट की बरसी, धमाकों में २०९ निर्दोष लोगों की मौत…

Rokthok Lekhani

Read More बॉम्बे हाई कोर्ट ने सलमान खान आवास फायरिंग मामले में आरोपियों की हिरासत में मौत की जांच पर स्टेटस रिपोर्ट मांगी

मुंबई : ७/११ यानी वर्ष २००६ के जुलाई महीने की ७ तारीख के उस काले दिन की दर्दनाक यादें। उस दिन मुंबई की लाइफ लाइन कही जानेवाली लोकल ट्रेनों में एक के बाद एक ऐसे ७ शृंखलाबद्ध धमाके हुए थे। पश्चिम रेलवे की उपनगरीय ट्रेनों में हुए उन धमाकों में २०९ निर्दोष लोगों की मौत हो गई थी, जबकि ७०० से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए थे। उक्त घटना की आज बरसी है।

Read More मुंबई कोस्टल रोड और बांद्रा-वर्ली सी लिंक को जोड़ने वाला दूसरा बो आर्क स्ट्रिंग गर्डर सफलतापूर्वक स्थापित

१६ साल बाद भी लोकल ट्रेनों में सफर करनेवाले यात्री उन धमाकों को याद करके कांप उठते हैं। लोकल के यात्रियों को आज भी डर लगता है लेकिन रेलवे ने इससे कोई सबक सीखा होगा, ऐसा लगता नहीं है। रेलवे पुलिस और आरपीएफ चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था का दावा तो करती है लेकिन हकीकत में यात्रियों की सुरक्षा रामभरोसे ही नजर आती है। बता दें कि आज ही के दिन २००६ में माहिम से भायंदर के बीच लोकल ट्रेनों में एक के बाद एक ७ धमाके उस समय हुए थे, जब दिनभर के काम निपटा कर लोग घर जा रहे थे।

Read More मुंबई पुलिस ने किया दवा फैक्ट्री का भंडाफोड़... 104 करोड़ की दवाएं जब्त !

इन धमाकों के बाद कुछ दिनों के लिए रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गई थी। रेल परिसर खासकर प्लेटफॉर्मों पर सीसीटीवी से निगरानी रखे जाने, प्रवेश द्वारों पर संदिग्धों की जांच के लिए रेल पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी। मेटल डिटेक्टर एवं डोर प्रेâम मेटल डिटेक्टर के जरिए यात्रियों की जांच की जाती थी, लेकिन उस घटना के कुछ दिन बाद सुरक्षा व्यवस्था शिथिल हो गई। नतीजतन दो साल बाद यानी २६ नवंबर, २००८ को मुंबई के रेल यात्री एक बार फिर आतंकी हमले का शिकार बन गए। २६ / ११ आतंकी हमले के रूप में जाने जानेवाले मध्य रेलवे के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस पर हुए उक्त आतंकी हमले को भी अब रेलवे ने भुला दिया है।

Read More ईटीवी भारत संवाददाता शाहिद अंसारी  द्वारा साहिल खान से सवाल करने पर जान से मारने की धमकी, एफआईआर दर्ज

ट्रेन में यात्रा करने वाली पूजा ने बताया कि हमारी सुरक्षा रामभरोसे है। लेडीज डिब्बे में सामान बेचने वाले, भिखारी सहित अन्य लोग घुस जाते हैं। आपातकालीन स्थिति में सहायक बूथ पर पुलिस के जवान भी नहीं रहते हैं, वहीं फस्र्ट क्लास में यात्रा करनेवाली दर्शाना लक्ष्मण झोरे ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा सिर्पâ दिखावा है। रेलवे प्रशासन की लापरवाही, मनमानी के बीच जनरल डिब्बे के लोग भी फस्र्ट क्लास में सफर करते हैं। इस दौरान पुलिस स्टेशन पर नजर नहीं आती है।


Tags:

Today's E Newspaper

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Rokthok Lekhani Epaper

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

मुंबई में आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में तीन पर मामला दर्ज  मुंबई में आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में तीन पर मामला दर्ज
मुंबई: पुलिस ने सोमवार को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए दो अलग-अलग घटनाओं में तीन लोगों के खिलाफ...
महाराष्ट्र एचएससी परिणाम 2024 घोषित, 93.37% छात्र उत्तीर्ण
मुंबई हवाई अड्डे पर एमिरेट्स उतरने वाला विमान राजहंस के झुंड में उड़ा 40 पक्षी की मौत
मुंबई के वर्ली में शिवसेना (यूबीटी) के पोलिंग बूथ एजेंट शौचालय के अंदर पाए गए मृत
पुणे में 3 करोड़ की कार से युवक-युवती को कुचला, नाबालिग के खिलाफ केस दर्ज
मुंबई के सायन में मतदान के दौरान कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प
छत्रपति शिवाजी महाराज चौक पर रैली में ड्रोन उड़ानें के मामले में एक व्यक्ति पर केस दर्ज

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media