CM शिंदे ने विपक्षी नेताओं पर कसा तंज  'इन्हें तो मैडम के बिना नाक खुजलाने की इजाजत नहीं'

CM Shinde taunts opposition leaders, 'They are not allowed to scratch their nose without madam'

CM शिंदे ने विपक्षी नेताओं पर कसा तंज  'इन्हें तो मैडम के बिना नाक खुजलाने की इजाजत नहीं'

मुंबई, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के विपक्षी नेतावो पर टिप्पणी करते हुए कहा ,इन्हें मैडम की इजाजत बिना नाक खुजलाने की  इजाजत नहीं है, वह लोग मुझे दिल्ली की कठपुतली कहते हैं।

मुंबई, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के विपक्षी नेतावो पर टिप्पणी करते हुए कहा ,इन्हें मैडम की इजाजत बिना नाक खुजलाने की  इजाजत नहीं है, वह लोग मुझे दिल्ली की कठपुतली कहते हैं। विपक्ष के चाय पान के बहिष्कार पर महाराष्ट्र के दोनों उपमुख्यमंत्रियों देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार ने  कहा कि अगली बार से उनके लिए चाय पान की जगह पान सुपारी का निमंत्रण देना होगा।


एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के विपक्षी नेताओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि, इन्हें मैडम की इजाजत के बिना नाक खुजलाने की भी इजाजत नहीं है, वह लोग कहते हैं कि मैंने स्वाभिमान गवा दिया है, ये लोग मुझे बोलते हैं कि मैं स्वाभिमान खो दिया हूं, दिल्ली जाता हूं, कठपुतली हूं लेकिन जिन्हें मैडम के आदेश के बिना नाक खुजलाने की भी इजाजत नहीं है ,वह लोग आरोप लगा रहे हैं और स्वाभिमान की बात कर रहे हैं। हम दिल्ली जाते हैं, निधि लाते हैं, केंद्र सरकार ने जो पैसे दिए हैं, मांगे बिना मिलते नहीं है, कोशिश करना पड़ता है, फॉलो करना पड़ता है। कडक सिंह बनकर चलता नहीं है। शिंदे ने आगे कहा कि पिछले ढाई साल में, आपके अहंकार, कहते है कि केंद्र सरकार ने पैसे दिए नहीं, मांगना पड़ता है, आपके अहंकार की वजह से राज्य का नुकसान हुआ है, कई उद्योग बंद पड़ गया, कई प्रकल्प स्थगित हो गए हैं। 


महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि आज विपक्ष ने चाय-पान का बहिष्कार किया है। चाय-पान चर्चा के लिए होता है। विरोधी पक्ष के स्वभाव को देखते हुए अगले वर्ष सुपारी-पान रखना पड़ेगा, मुझे लगता है कि वो तब आएंगे। शीतकालीन अधिवेशन नागपुर में होता है लेकिन विपक्ष के पत्र में विदर्भ और मराठवाड़ा का जिक्र ही नहीं है। विपक्ष की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंच पर बैठे कई नेता सो रहे थे, जिस तरीके से तीन राज्य के चुनाव में तीन राज्य सो गए, ऐसा लग रहा है कि पत्र भी उन्होंने नींद में ही लिखा है क्या। मुझे आश्चर्य हुआ कि नागपुर का अधिवेशन विदर्भ के प्रश्नों पर चर्चा हो मराठवाड़ा के प्रश्नों पर चर्चा हो, सही माने में अधिवेशन इसलिए यहां होता है, विरोधी पक्ष के पत्र में विदर्भ मराठवाड़ा की समस्याओं का उल्लेख तक नहीं है।


महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने विरोधी पक्ष नेताओं की पत्र पर टिप्पणी करते हुए कहा कि की देवेंद्र फडणवीस भी विरोधी पक्ष नेता रह चुके हैं, एकनाथ शिंदे भी विरोधी पक्ष नेता रह चुके हैं, खुद मैं भी विरोधी पक्ष नेता रह चुका हूं, पत्र उन्होंने जो दिया है उसमें 23 लोगों का नाम है, लेकिन उसमें हस्ताक्षर 7 लोगों का ही है। नाम  यदि लिखना था तो 7 लोगों का ही नाम लिखना था। नाम लिखा है वह लोग हाजिर नहीं है, इतने गंभीर है, चाह-पान का विपक्ष ने बहिष्कार किया है, तो हमें लग रहा है कि अगली बार इनके लिए हमारे मन में ऐसा आया है कि अगली बार उनके लिए पान-सुपारी का ही कार्यक्रम रखा जाए।

Citizen Reporter

Report Your News

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Rokthok Lekhani Epaper

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

नागपुर में पत्नी ने खाना बनाने से किया मना...  पति ने बच्चों सहित पत्नी को बांधकर दी धमकी नागपुर में पत्नी ने खाना बनाने से किया मना... पति ने बच्चों सहित पत्नी को बांधकर दी धमकी
महाराष्ट्र के नागपुर शहर के ओम नगर में एक हाई-वोल्टेज ड्रामा सामने आया जब एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और...
लोकसभा चुनाव में मुंबई की सभी 6 सीटों पर महायुती लहराएगी विजय पताका
दो समूहों के बीच झड़प में घायल छात्र की मौत... भिवंडी में तनाव
हजारों डॉक्टरों ने किया राज्यव्यापी हड़ताल का एलान...
26 फरवरी को प्रधानमंत्री मोदी देशभर के 556 स्टेशन के पुनर्विकास परियोजना की रखेंगे आधारशिला...
कल्याण रेलवे स्टेशन के पास मिले 54 डेटोनेटर, बम स्क्वाड को मौके पर बुलाया गया आगे की जांच शुरू...
नवी मुंबई में महंगा मोबाइल और कार का दिया लालच, 66 लाख रुपए डूबे

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media