सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमना ने FASTER का उद्घाटन किया

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमना ने FASTER का उद्घाटन किया

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने जमानत, गिरफ्तारी पर रोक जैसे अहम आदेश जेल अधिकारियों और जांच एजेंसियों तक जल्द पहुंचाने के लिए नई व्यवस्था शुरू की है. इसका नाम रखा गया है ‘Fast and Secure Transfer of Electronic Records’ यानी ‘FASTER’. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमना ने आज अपने साथी जजों, देश के सभी हाई कोर्ट जजों और वरिष्ठ वकीलों की उपस्थिति में इसका उद्घाटन किया.

पिछले साल 8 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने आगरा जेल में बंद 13 कैदियों की रिहाई का आदेश दिया था. 14 से 22 साल से जेल में बंद यह सभी कैदी अपराध के समय नाबालिग थे. इस जानकारी के आधार पर ही कोर्ट ने उनकी तुरंत रिहाई का आदेश दिया था. लेकिन उनकी रिहाई में 4 दिन से भी ज़्यादा का समय लग गया.

Read More मुंबई: 4 जून को शहर में 'ड्राई डे' के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका

इस पर चीफ जस्टिस एन वी रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने स्वतः संज्ञान लेते हुए सुनवाई शुरू की. 16 जुलाई को कोर्ट ने ऐसी सुरक्षित व्यवस्था बनाने का आदेश दिया जिससे सुप्रीम कोर्ट की तरफ से जारी हुआ आदेश तुरंत हाई कोर्ट, ज़िला कोर्ट और जेल प्रशासन तक पहुंचाया जा सके. मामले पर आदेश देते हुए चीफ जस्टिस ने कहा था, “यह स्वीकार नहीं किया जा सकता कि सुप्रीम कोर्ट से किसी की रिहाई का आदेश जारी हो जाए, पर वह तुरंत जेल से बाहर न आ सके. अधिकारी कोर्ट के लिखित आदेश की प्रमाणित कॉपी की प्रतीक्षा करते रहते हैं. उन्हें इस बात का एहसास नहीं होता कि इस तरह से एक नागरिक की व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का हनन हो रहा है.”

Read More पुणे रैश ड्राइविंग मामला: उत्पाद शुल्क विभाग ने नाबालिग आरोपियों को शराब परोसने वाले दो बार सील कर दिए

कहीं नहीं है पूरे सौरमंडल में जस्टिस रमना ने आगे कहा, “सूचना तकनीक के इस युग में हम अब भी आसमान की तरफ देखते हैं कि कोई कबूतर संदेश लेकर आएगा.” सुप्रीम कोर्ट के सभी आदेश अभी भी उसकी वेबसाइट पर अपलोड किए जाते हैं. लेकिन अधिकारी आदेश की प्रमाणित प्रति (certified copy) अपने पास पहुंचे बिना उस पर अमल नहीं करते. नई व्यवस्था में कोर्ट के आदेश की प्रमाणित कॉपी तुरंत संबंधित अधिकारियों तक पहुंचाई जाएगी.

Read More शाहरुख खान की तबीयत अचानक बिगड़ने, डिहाइड्रेशन और हीटस्ट्रोक के चलते केडी अस्पताल में भर्ती

ऐसा करते हुए इस बात पर ध्यान दिया जाएगा कि आदेश सुरक्षित तरीके से पहुंचे. उसे हैकिंग या किसी और तरीके से नुकसान न पहुंचाया जा सके. इसके लिए विशेष लॉग-इन का इस्तेमाल होगा. इसके लिए 1887 आईडी बनाई गई हैं. ईमेल के माध्यम से जिसे आदेश की सूचना भेजी जाएगी, वही उसे खोल सकेगा

Read More नवी मुंबई : हैरान कर देने वाला मामला सामने आया अश्लील वीडियो देखकर नाबालिग भाई-बहन ने बनाए शारीरिक संबंध

Tags:

Today's E Newspaper

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Rokthok Lekhani Epaper

Related Posts

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

मुंबई: 4 जून को शहर में 'ड्राई डे' के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका  मुंबई: 4 जून को शहर में 'ड्राई डे' के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका
मुंबई: एसोसिएशन ऑफ ओनर्स ऑफ होटल्स, रेस्टोरेंट्स, परमिट रूम्स एंड बार्स (एएचएआर) ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है,...
पुणे कार दुर्घटना में नाबालिग आरोपी के पिता को 24 मई तक पुलिस हिरासत में भेजा गया
शाहरुख खान की तबीयत अचानक बिगड़ने, डिहाइड्रेशन और हीटस्ट्रोक के चलते केडी अस्पताल में भर्ती
मुंबई विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया शुरू, विवरण देखें
मुंबई में एन, एस और टी वार्ड में 24 घंटे पानी की कटौती
घाटकोपर क्षतिग्रस्त वाहनों को वापस लेना और उन पर बीमा का दावा करने ,थर्ड पार्टी बीमा वाले वाहनों के लिए एफआईआर की आवश्यकता
मुंबई: जिला महिला जेल में परिवार सहायता डेस्क का उद्घाटन

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media