हाई कोर्ट ने रद्द की याचिका , समीर वानखेड़े को डबल झटका

हाई कोर्ट ने रद्द की याचिका , समीर वानखेड़े को डबल झटका

मुंबईः के मुंबई जोन के पूर्व निदेशक समीर वानखेड़े मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने सुनवाई की. इस दौरान कोर्ट नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि समीर वानखेड़े की ओर से एक दिन पहले दायर की गई याचिका को अदालत की मंजूरी के बिना सुनवाई के लिए कैसे सूचीबद्ध कर दिया गया. जस्टिस गौतम पटेल और न्यायमूर्ति माधव जामदार की खंडपीठ ने याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया और कहा कि यह कोई बेहद जरूरी मामला नहीं है.

वानखेड़े 2008 बैच के अधिकारी हैं और उन्होंने सोमवार को एक याचिका दायर की थी, जिसमें ठाणे आबकारी कलेक्टर के उस आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसके तहत नवी मुंबई में वानखेड़े के रेस्तरां और बार में शराब परोसने के लाइसेंस को रद्द कर दिया गया था. वानखेड़े ने रद्द किये गए लाइसेंस को बहाल करने का अनुरोध करते हुए याचिका दायर की थी.

Read More मालवणी 2015 जहरीली शराब त्रासदी: चार दोषियों को 10 साल की जेल

जस्टिस पटेल ने कहा कि हमारे पास सोमवार को इस याचिका का उल्लेख नहीं किया गया था, तब आज इसे सूचीबद्ध कैसे किया गया?” वानखेड़े की वकील वीणा थडानी ने अदालत को बताया कि वह सोमवार को इस मामले का उल्लेख किए जाने की प्रतीक्षा कर रहे थे, लेकिन कोर्ट के अधिकारियों ने कहा कि इसे मंगलवार को सूचीबद्ध किया जाएगा. इसके बाद पीठ ने अदालत के अधिकारियों को ऐसा नहीं करने की चेतावनी दी.

Read More मुंबई होर्डिंग दुर्घटना बचाव अभियान 60 घंटे बाद समाप्त; मलबा हटाने का काम शुरू

जस्टिस जामदार ने कहा कि एक गरीब व्यक्ति याचिका दायर करता है और मामला कभी सुनवाई के लिए नहीं आता और जब कोई प्रभावशाली व्यक्ति याचिका दायर करता है तो उसकी याचिका सुनवाई के लिए तत्काल सूचीबद्ध कर दी जाती है. पीठ ने पूछा कि इसमें ऐसी क्या बेहद जरूरी बात थी? कौन सा आसमान टूट रहा था? इस मामले में प्रतिवादी एवं महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक की ओर से पेश हुए वकील फिरोज भरुचा ने याचिका की एक प्रति मांगी और उसका जवाब देने के लिए समय मांगा.

Read More मुंबई कोस्टल रोड और बांद्रा-वर्ली सी लिंक को जोड़ने वाला दूसरा बो आर्क स्ट्रिंग गर्डर सफलतापूर्वक स्थापित

भरुचा ने कहा कि मंत्री के विरुद्ध गलत आरोप लगाए गए हैं. अदालत ने कहा कि उक्त याचिका पर तत्काल सुनवाई नहीं होगी और बाद में इस पर सुनवाई की जाएगी. जस्टिस पटेल ने कहा कि केवल इसलिए कि आप दोनों वानखेड़े और मलिक के बीच मीडिया में वाकयुद्ध चल रहा है, हमें तत्काल सुनवाई करनी होगी? याचिका में वानखेड़े ने दावा किया है कि उन्होंने स्वापक नियंत्रण ब्यूरो की मुंबई इकाई के प्रमुख रहते हुए मलिक के रिश्तेदार को गिरफ्तार किया था, इसलिए उनके विरुद्ध बदले की भावना से कार्रवाई की गई है.

Read More हत्या और डकैती के मामले में पांच लोग बरी; अभियोजन पक्ष आरोपियों के खिलाफ सबूत पेश करने में विफल

Tags:

Today's E Newspaper

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Rokthok Lekhani Epaper

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

मुंबई: 4 जून को शहर में 'ड्राई डे' के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका  मुंबई: 4 जून को शहर में 'ड्राई डे' के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका
मुंबई: एसोसिएशन ऑफ ओनर्स ऑफ होटल्स, रेस्टोरेंट्स, परमिट रूम्स एंड बार्स (एएचएआर) ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है,...
पुणे कार दुर्घटना में नाबालिग आरोपी के पिता को 24 मई तक पुलिस हिरासत में भेजा गया
शाहरुख खान की तबीयत अचानक बिगड़ने, डिहाइड्रेशन और हीटस्ट्रोक के चलते केडी अस्पताल में भर्ती
मुंबई विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया शुरू, विवरण देखें
मुंबई में एन, एस और टी वार्ड में 24 घंटे पानी की कटौती
घाटकोपर क्षतिग्रस्त वाहनों को वापस लेना और उन पर बीमा का दावा करने ,थर्ड पार्टी बीमा वाले वाहनों के लिए एफआईआर की आवश्यकता
मुंबई: जिला महिला जेल में परिवार सहायता डेस्क का उद्घाटन

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media