नाले में बहनवाले गंदे पानी को ट्रीटमेंट कर बोतल बंद पानी की तरह साफ बनाने की योजना...

A plan to treat the dirty water flowing in the drain and make it as clean as bottled water.

नाले में बहनवाले गंदे पानी को ट्रीटमेंट कर बोतल बंद पानी की तरह साफ बनाने की योजना...

नाले में बहनेवाला गंदा पानी बिसलेरी के बोतल के पानी की तरह शुद्ध और पीने योग्य दिखे तो चौंकिएगा मत। महानगर मुंबई में मनपा पहली बार नाले में बहनेवाले उस गंदे पानी को ट्रीटमेंट कर बोतल बंद पानी की तरह साफ बनाने की योजना पर काम कर रही है।

मुंबई : नाले में बहनेवाला गंदा पानी बिसलेरी के बोतल के पानी की तरह शुद्ध और पीने योग्य दिखे तो चौंकिएगा मत। महानगर मुंबई में मनपा पहली बार नाले में बहनेवाले उस गंदे पानी को ट्रीटमेंट कर बोतल बंद पानी की तरह साफ बनाने की योजना पर काम कर रही है।

मनपा ने इसके लिए कोलाबा के एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) प्लांट से निकलनेवाले पानी को ज्यादा शुद्ध बनाने के लिए टेंडर आमंत्रित किया है। यहां एसटीपी प्लांट से रोजाना २५ एमएलडी पानी का ट्रीटमेंट किया जाता है। इसमें से १२ एमएलडी पानी को शुद्ध करके मुंबईकरों को पीने योग्य पानी उपलब्ध कराया जाएगा।

वहीं धारावी, वर्सोवा, घाटकोपर जैसे अन्य छह बड़े एसटीपी प्लांट के पानी को पीने योग्य बनाने के लिए कंसल्टेंट की नियुक्ति की जाएगी। मनपा के अनुसार एसटीपी प्लांट के पानी को शुद्ध बनाने के लिए मनपा एडवांस टेक्नोलॉजी का उपयोग करेगी। मनपा ने यह एडवांस टेरिटरी ट्रीटमेंट प्लांट (एटीटीपी) लगाने का टेंडर आमंत्रित किया है। इस परियोजना को पूरा होने में ३ वर्ष का समय लग सकता है।

मनपा इस पर लगभग २५० करोड़ रुपए खर्च करेगी। मनपा जल विभाग के मुख्य अधिकारी वसंत गायकवाड के अनुसार जल्द ही इसका टेंडर खुलेगा। इसमें देशी, विदेशी कंपनियों के हिस्सा लेने की संभावना है। मनपा की शर्तों के अनुसार टेंडर दिया जाएगा। टेंडर प्रदान होने के बाद वंâपनी को तीन वर्ष में काम को पूरा करना है।

गायकवाड ने बताया कि यहां कोलाबा एसटीपी प्लांट पर फिलहाल २५ एमएलडी पानी का रोजाना ट्रीटमेंट हो रहा है और द्वितीय श्रेणी के कार्यों में उपयोग के लिए इस पानी को सप्लाई किया जाता है। इसमें से कुछ पानी को समुद्र में डेढ़ किमी भीतर छोड़ा जाता है लेकिन अब जब एटीटीपी प्लांट लग जाएगा तो हम १२ एमएलडी पानी का शुद्धिकरण कर पाएंगे। यह पानी बिल्कुल साफ पीने योग्य भी होगा। ऐसा दावा कंपनियों ने किया है लेकिन फिर भी हम एक कंसल्टेंट नियुक्त करके इस पर रिपोर्ट मंगवाएंगे।

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि मनपा ने यह योजना २०२० में ही बनाई थी लेकिन कोरोना महामारी के चलते यह लटक गया था। अब जब कोरोना कम हुआ है तो मनपा ने फिर से जोर मारा है। मनपा की यह महत्वाकांक्षी परियोजना है। कोलाबा प्रोजेक्ट की सफलता के बाद इसे वर्सोवा, धारावी, घाटकोपर, भांडुप, वर्ली, बांद्रा और मालाड के एसटीपी प्लांट में भी लागू किया जाएगा। इसके लिए भी कंसल्टेंट की नियुक्ति की जाएगी।

Citizen Reporter

Report Your News

Join Us on Social Media

Download Free Mobile App

Download Android App

Follow us on Google News

Google News

Rokthok Lekhani Epaper

Post Comment

Comment List

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media

Latest News

फुटपाथों पर अतिक्रमण को लेकर बीएमसी को बॉम्बे हाई कोर्ट की फटकार... फुटपाथों पर अतिक्रमण को लेकर बीएमसी को बॉम्बे हाई कोर्ट की फटकार...
फुटपाथों पर अतिक्रमण, अवैध विस्तार और पार्किंग बाधाओं की व्यापकता, विशेषकर रेलवे स्टेशनों के आसपास, उन्हें सक्षम व्यक्तियों और विकलांग...
महाराष्ट्र के पुणे में जाली नोट फैक्ट्री का भंडाफोड़... चीन से मंगवाया कागज, हूबहू छापे 500 के नोट
MVA के बीच सीट बंटवारा हो चुका है... घोषणा जल्द !
नवी मुंबई में विदेशी मुद्रा उपलब्ध कराने के बहाने 37 वर्षीय एक व्यक्ति से 60 हजार रुपये की ठगी !
दो से ज्यादा बच्चे वाले लोगों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी... राजस्थान के नियम पर SC की भी लगी मुहर
आज किसान करेंगे आगे की रणनीति का ऐलान... पटियाला और संगरूर में इंटरनेट बंद !
स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे के सपने को पूरा करने के लिए मंत्रालय पर झुग्गीवासियों का संकल्प मार्च

Advertisement

Sabri Human Welfare Foundation

Join Us on Social Media